Media

नेशनल न्यूज़ चैनेलों में सबसे बेहतर किसे मानते है, नेशनल एडवाईज़री कौसिल के सदस्य जिसे सबसे ज्यादा पसंद करेगें, उसके प्रमोशन के लिए हर संभव सहयोग व सहायता दी जायेगी।

Vote for favourite National news channel

आपकी आवाज़ मीडिया फाउंडेशन

मीडिया हाउस का उद्देश्यः देश-विदेश के सेकुलर, सच्चे, इंसाफ व अमन पसंद लोगों के विचारों, प्रयत्नों व कार्यो को देश-विदेश के अधिक से अधिक लोगो तक पहुँचाना कर देश के विकाश व उन्नति में योगदान देना है।

मीडिया हाउस क्यों?

मीडिया के महत्व, फायदो और प्रभाव से सभी अच्छी तरह से परिचित है। लोकतंत्र के युग में जनमानस तैयार करने का मीडिया सर्वाधिकार महत्वपूर्ण हथियार है,  लोकतंत्र के सभी प्रमुख स्तंभ पर सीधी निगाह ऱखता और  सरकारों के नीतियों पर नकेल, प्रशासन की मनमानी, भष्ट्राचार व गलत नीतियों से रोकने व न्यायपालिका को भी सच्चाई से परिचित कराने में महत्वपूर्ण रोल और अच्छो कार्यो के लिए मार्गदर्शन करता है अर्थात जीवन के सभी क्षेत्र में मीडिया का अहमतरीन और बुनियादी महत्वपूर्ण रोल है।

लेकिन ये भी सही है कि मीडिया जैसे महत्लपूर्ण हथियार का प्रयोग देश के बहुसंख्यकों के भी गिनती के लोग ही हाथो मे है  और देश के दलित, अल्पसंख्यक व पिछड़े वर्ग आदि लगभग इससे वंचित रखा गया..है और मुख्यधारा की मीडिया उनकी समस्याओं को पूरी तरह से नज़रअंदाज करते है या उनकी ज्यादातर कमियों के तिल को ताड़ बनाकर सोची समझी साजिश के तहत दिखाता रहता है, गुड मुस्लिम और बैड मुस्लिमों आदि जैसो में कौमों को विभाजित किया गया, बिकाऊ व शरारती तत्वो की खबरो को महत्व देकर तरह- तरह के ग्रुपो, वर्गो व श्रेणियों में विभाजित किया गया ताकि उनमें एकता, विश्वास, अधिकार, उन्नति व समानता जैसी मूलभूत सुविधायें को हासिल करने के बजाये खुद की समस्यायों में बँटे और उलझे रहे। कुछ लोगों की गलतियों को लेकर पूरी कौमों को बदनाम करने के लिए कौन जिम्मेदार है, वो आह भी करते है तो हो जाते है बदनाम..और वो कत्ल भी करते है तो चर्चा नही होती है। संक्षेप में एक वर्ग जाल बुनता है और मीडिया लोगों को उसमें फँसाने का काम करती है। आदि आदि। और इन हालात को बेहतर बनाने की अगर हम समय रहते हुए नकेल नही लगायी तो दोषी आप खुद होंगे।

मीडिया हाऊस बनाने में हमारी तैय्यारियाः

  1. नेट मीडिया व हमः aapkiawaz.com – विश्वविख्यात न्यूज पोर्टल, 52 भाषाओं में, चैनेल की तरह आदि जैसी विशेषताओँ को 14 वर्षों से पूरी कामयाबी के साथ चलाया जा रहा है, दुनियाँ भर में लाखों लोगों तक पहुँचाने वाली इन खबरो की वजह से बहुत बड़ी-बड़ी कामयाबियाँ भी मिली है.जिसमें से राकेश कुमार-विशेष सचिव, विदेश मंत्रालय समेत 14 लोगो की सीबीआई से गिरफ्तारी भी शामिल है। इस न्यूज पोर्टटल को एस. एम. अहमद ने जिसने नस्तालिक में दुनियाँ की पहली वेबसाईट बनायी था। खुशकिस्मती से वो मेरे बड़े बेटे है। आज भी वो दिन रात उसको बेहतर बनाने और दुनिया भर में ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुँचाने की कोशिश कर रहे है।
  2. Social Media और हम: फेसबुक पर Aapki Awaz नामकी प्रोफाईल के अलावा 100 से अधिक ग्रुपो व पेज पर लाखो लोगो को शामिल किया गया है। साथ बी हजारों ग्रुपो व पेजो के एडमिनो का फेडरेशन ट्युटर आदि पर न सिर्फ रात-दिन काम चलाया जा रहा है साथ ही कुरआने पाक की आयेतः अम्रहुम शूरा बैनहुम यानी (ऐ ईमानवालो, अपने कामों को आपसी मशवरे को किया करो (38:40) को आधार बनाते हुए देश भर के लगभग 600 शहरो के हजारो लोगो से 09213344558 पर मिस्डकाल के जरियें बात करके सुलझे व समझदारों पर आधारित शहरो व राज्यो की कमेटियाँ गठित की गई और ये सिलसिला आज भी चल रहा है।
  3. प्रिंट मीडिया और हमः देश-विदेश में अनको भाषाओं में लाखों पत्र-पत्रिकाये व पोर्टल आदि है, और ये अरबो-खरबो रूपये नेटवर्क है, जो देश व समाज को दिशा देने में योगदान दे रह है और इनमें से ज्यादातर को सच्ची व अच्छी खबर व लेख की जरूरत होती है। इसलिए हम अपने देश-विदेश के नेटवर्क के जरियें अच्छे व इंसाफ पसंद खबरो व विचारो को उन तक पहुँचाने का न्यूज सर्विस के जरिये सतत प्रयास करते रहेगे। अभी तक लगभग 11000 अखबारात, मैगजीन व पोर्टलो आदि की पहचान का काम पूरा कर लिया गया है। इस कार्य प्रेस काँफ्रेस आदि का भी सहयोग लिया जायेगा।
  4. टीवी व इलेक्ट्रनिक मीडिया और हमः ये खबरो को दिखाने व लोगो में विश्वास पैदा कराने वाला सबसे सशक्त माध्यम है। इस माध्यम को पूरी तरह से अपने हक़ में इस्तेमाल करने के लिए अपना सर्वर, कैमरे व रेकार्डिग स्टूडियो आदि के इतंजाम कुछ हो गया है और कुछ पर काम चल रहा है। इसके लिए हम जल्त ही हम देश भर से किसी भी बिषय पर ग्रुप बहस, टेलीफोनिक सवालो व आम जनता की राय जानने का सिलसिला शूरू करने जा रहे है। और इस Video अपने सर्वर के अलावा यू-टयूब के जरिये भी दुनियाँ भऱ तक पहुँचाने की कोशिश करेगे।