दिल्ली में निचले स्तर पर पहुँची कानून व्यवस्था, खुलेआम अदालतों के आदेशों का असम्मान और भ्रष्टाचार

Related News:  Criminal nexus making Delhi an Andher Nagri – A glorious short story through Picture Gallery

Delhi Police, Builder Mafia and Criminal Nexus – Flouting Hon’ble Supreme Court Order openly in Jamia Nagar

नई दिल्ली…4 फरवरी, 2017, दिल्ली में निचले स्तर पर पहुँची कानून व्यवस्था, खुलेआम अदालतों के आदेशों का असम्मान और भ्रष्टाचार के नंगे नाच की ऐसी मिसाल हमने तो 62 वर्षों में नही देखी थी और न ही कल्पना की थी। घटना पीएस जामियां नगर की है, एक महाशय को अपने पड़ोस में बनने वाले प्रपोज़ बहुँमंजिली अवैध निर्माण के विरोध स्वरुप 2000 में स्टे ले लेना, उनके जीवन की सबसे बड़ी भूल बन गई, उनका व उनके परिवार का जीवन नरक हो गया, जानलेवा हमला, झूठे केस, जानमाल की धमकी-आदि आदि.. अदालतो के चक्कर में ही 17 वर्ष बीते, आमतौर से अदालते ऐसे व्यवहार करती है जैसे शिकायतकर्ता अधिकार नही भीख माँग रहा हो जहाँपनाह से. लेकिन इस सबके बावजूद इस बात का संतोष था कि उनके प्रयास से एक गलत काम को रोकने में सफलता मिल रही थी।

लेकिन 20 जनवरी 2017 उस प्लाट पर दोबारा अवैध निर्माण शुरू हुआ तो पीसीआर काल करने के बदले में एक बड़ा झूठा केस 22 जनवरी को बना दिया गया, ताकि गिरफ्तारी की आड़ में अवैध निर्माण ब्लैकमेल करके कराया जा सके, शिकायतकर्ता ने प्रधानमंत्री, सुप्रिमकोर्ट व हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस, उपराज्यपाल, महेशगिरी- एमपी, पुलिस व एमसीडी के आयुक्त, सीवीसी, सीबीआई, विशेष आयुक्त ला-आर्डर, डीसीपी, एसीपी व एसएचओ आदि को न केवल मेल, बाईहैंड एक विस्तार में लिखा पत्र दिया बल्कि कई अधिकारियों से स्वम मिलकर पूरी घटना की जानकारी भी दी, लेकिन केवल आश्वासन या पत्र के किसी तरह की कोई राहत आजतक नही मिली और अवैध निर्माण एमसीडी के पुलिस को काम रोकने के दो पत्र लिखने व तोड़ने के नोटिस के बावजूद आज भी उसी तरह अनवरत रात-दिन चल रहा है और ये पूरा काम स्थानीय पुलिस की निगरानी में चल रहा है, ऐसे पुलिस वाले भी इसमें शामिल है जिसका 4 महीने पहले स्थातरण हो गया है जिनकी उगाही की योग्यता की वजह से शायद आज तक थाने में ही मौजूद है। जिसको सीसीटीवी कैमरे के रिकार्ड से देख सकते है।

आखिर थक हार कर शिकायतकर्ता नें हाईकोर्ट की शरण ली, एंटीसिपेटरी बेल करायी, अदालत की अवमानना और जानमाल की रक्षा के लिए की अदालत से गुहार लगाई, लेकिन अदालतों की तारीख देने की परंपरा खुद में बहुत तकलीफ देने वाली है। इसलिए शिकायतकर्ता ने तय किया है कि वो अब उस अवैध निर्माण का विरोध किसी भी स्तर पर न करके उसकी वजह से होने वाले पूरे घर में आ गई दरारों की शुरुआत जिसकी वजह से धीरे-धीरे सारा मकान टुट जायेगा, का मुआवजा सुप्रिमकोर्ट तक जाकर भी वसूल कर लेगा और जब तक सिक्योरिटी नही मिल जाती है तब तक किसी भी अदालत में पेश होकर इस अवैध निर्माण के बारे में कुछ नही कहेगा और न करेगा. लानत तो ऐसे सिस्टम, कानून व्यवस्था और अदालतों की न्याय देने के नाम पर तारीखों की नौटंकी पर।

अतः आपसे भी अनुरोध है कि अगर आपके घर के साथ में कोई अवैध निर्माण हो रहा हो तो उसका विरोध करने के बजाये केवल मुआवजे का क्लेम करे..जरुरत हो तो हम आपकी सहायता मुआवजा दिलानें में करेगे। बाकी अब देश में गुंड़े-मवालियों व भ्रष्ट्र अधिकारियों का बोलबाला है और रिश्वत के बदले में किसी भी हद तक गिरने से भी बाज आते है।

इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री कार्यालय, आम आदमी पार्टी, पुलिस आयुक्त, महेशगिरी आदि ने कार्यवाही की रिपोर्ट माँगी है और जानकारी के अनुसार भ्रामक और सिरे से गलत रिपोर्ट भेजी जा रही है..सच्चाई को मय दस्तावेजों व फोटोग्राफ देखने के लिए पढ़ियें विश्वविख्यात न्यूज पोर्टल आपकी आवाज़.काँम पर.. http://www.aapkiawaz.com/police-criminal-nexus-making-delhi-andher-nagri/

Now the story. There are huge no. of similar cases.

  1.  Unauthorized and illegal multi story construction at I-101, Batla House, Jamia Nagar, New Delhi, which was carried out just adjacent of the house of the petitioner  in the year 2000. Photograph of the site is as follows:
     
  2. On 05.02.2000 Hon’ble Court has granted the stay order with the direction to the police to implement it’s order.
  3.  A BC of Hauz Qazi, having 21 serious criminal cases filed against him claimed himself to be the owner of the land in question and filled complaint no. 92/1 of 2012 against the petitioner on the charges of extortion. Which was later quashed by Hon’ble High Court.
  4. On 14/09/2015 a lady named Asma Parveen Alias Bhoori w/o land mafia Anwar Alias Tillipada, emerged as claimant of the land and started construction without compliance of the order and made similar calls to the PCR accusing the petitioner, but police found it as fake and baseless claim. Then the applicant has filled a CM in in Court against this lady as there was apprehension that she may implicate the petitioner in false case/s in order to bargain and allow them to carry out their illegal activities.
  5. Status of site on 20/23 January 2017 as follows:  
  6. 21 Jan 2017 applicant called PCR as bulidng mafia started illegal construction on stayed land. Thereafter he was directed to meet Mr. Vijay Pal Singh, SHO, Jamia Nagar, New Delhi, given him the complain and copy of Stay order and explained him the matter. The fearlessness of criminals can be ascertained by this fact that while applicant wet to meet SHO in Police Station itself he was threatened to face dire consequences and family was threatened to be killed. Recording for the same is available.
  7. Applicant filed complain with SHO, ACP, DCP, Commissioner of Police, MCD, Chief Justice High Court, Chief Justice Supreme Court, Prime Minister and others.
  8. Police has registered FIR on false charges in connivance with builder mafia against the applicant and his son and threatened them not to complain against the illegal construction.
  9. Reply by Office of Hon’ble Prime Minister:
  10. Municipal Corporation of Delhi (MCD) wrote SHO to stop illegal construction. Letter dt. 10.2.2017 is as follows:

11. Status of site on 13.02.2016. Dangerous illegal construction against stay order going on in full swing:

12. Status of site on 14.02.2016. Dangerous illegal construction against stay order going on in full swing:

13. Status of site on 15.02.2016. Dangerous illegal construction against stay order going on in full swing:

14. on 16.02.2017 Applicant has filed contempt petition in Court. Hon’ble Court has issued contempt notice by taking into account the developments against SHO. Jamia Nagar, MCD and Culprits.

15. Irony of Police can be seen by not stopping dangerous illegal and unauthorized construction. Progress of site on 17/02/2017:

16. Daily photographs were shared with Senior Officers, including DCP (South East), but no action has been taken inspite of Contempt Notice issued by Court. Instead applicant is threatened by the Mafia. Photograph of work going on in full swing is as follows:

17. Photograph dt 20/02/2017 of work going on in full swing is as follows:

18. Letter by Hon’ble Member of Parliament to Commissioner of Police for action:

19. On 27 Feb 2017 3rd Floor getting ready, in almost 6 days 2 floors ready after contempt of court:

  

20.  Two floors finishes inspite of stay order and contempt of court notice (photograph with newspaper):

Feeling ashamed of thinking of corrupt police and ineffective  as well as unrespected judiciary.

 

21. Huge cracks started surfacing in adjacent homes:

   

21. Demolition by Municipal Corporation of Delhi (MCD) at second floor of illegal building on 21/3/2017 at 3:09 PM:

22.  Threat against petitioner’s family including female family members to outrage the modesty by using abusive language by Asma alias Bhoori (builder) on  22/03/2017, who reached the sport with her accomplices to prevent the him from pursuing the Court case. Following is the recording:

 

23.

Bhoori (criminal) alongwith her accomplices attacked the Petitioner and family members of family on 23/03/2017 to prevent him from approaching the Court

 

24. Letter from Shri Maheish Girri Ji, Hon’ble Member of Parliament dt. 11.03.2017 received, informing complainant that he will be informed about the action taken on his complain. Letter is as following: